Sunday, September 3, 2017

ईमानदार हो या बेईमान -सबको आशीर्वाद देते हैं भगवान !

ईमानदार हो या बेईमान ,सबको आशीर्वाद देते हैं भगवान ! उसके दरबार में हर तरह के लोग आते-जाते रहते हैं !. जैसे वह कोई नेता हो ,जिसके घर सुबह से शाम और देर रात तक किसम -किसम के चेहरे मंडराते रहते हैं ! चोर , डकैत , पाकेटमार , कालेधन के सफेदपोश कारोबारी, जरूरतमन्द जनता ,सबके सब अपने काम- धंधे पर निकलने से पहले अपनी मुराद पूरी करवाने के लिए भगवान या अल्लाह के दरबार में मत्था टेकते हैं !
      मेहनतकश किसान अच्छी फसल के लिए , मजदूर अच्छी मजदूरी के लिए , व्यापारी कारोबार में बरक्कत के लिए , नेता , मंत्री और अफ़सर अपनी तरक्की और पदोन्नति के लिए देवी - देवताओं के दरबार में पहुँचते हैं ,या  नहीं तो उनके प्रतिनिधि के रूप में गद्दी पर बैठे कलियुगी बाबे - बाबियों के डेरे पर आशीर्वाद लेने जाते हैं । कहने का मतलब ये कि अच्छे - बुरे सभी तरह के लोग अपने -अपने धंधे -पानी की बढ़ोत्तरी के लिए भगवान या अल्लाह की खुशामद करते रहते हैं । वह इनमें से आखिर किसकी - किसकी मनोकामना पूरी करता होगा ? क्या कोई बता सकता है ?  -स्वराज करुण 

Saturday, September 2, 2017

शायद कभी सुलग उठें राख में दबे विचार

           क्या टेक्नॉलॉजी में बदलाव से  इंसान की मानसिकता भी बदल जाती है ? माहौल देखकर तो ऐसा ही कुछ महसूस हो रहा है ! कुछ बरस पहले तक चिट्ठी - पत्री के जमाने में लोग जिस आत्मीयता से एक - दूसरे के साथ अपने मनोभावों की अदला - बदली करते थे और उस आदान -प्रदान में जो संवेदनाएं होती थी , आज मोबाइल और स्मार्ट फोन जैसे बेजान औजारों एसएमएस ,ट्विटर इंटरनेट और वाट्सएप जैसी बेजान अमूर्त मशीनों से निकलने वाले शब्दों में उन संवेदनाओं को महसूस कर पाना असंभव नहीं तो कठिन जरूर हो गया है !
              गाँव में हायर सेकेण्डरी की पढ़ाई पूरी होने के बाद कॉलेज की पढ़ाई के लिए शहर आकर हॉस्टल या किराये के मकान में रहने वाले बच्चे का अपने माता - पिता , भाई - बहन और यार दोस्तों को पोस्ट कार्ड या अंतर्देशीय पत्र में चिट्ठी लिखना , किशोर वय में एक - दूसरे के प्रति आकर्षित होकर किताब - कापियों के पन्नों के बीच चिट्ठी रखकर एक -दूजे की भावनाओं को साझा करना , लेखकीय अभिरुचि वाले युवाओं का किसी भी सम - सामयिक विषय पर अख़बारों में सम्पादक के नाम पत्र लिखना , रेडियो के शौकीन युवाओं का किसी आकाशवाणी केंद्र को फ़िल्मी गानों के लिए फरमाइशी पोस्ट कार्ड भेजना ..... अब कहाँ ?  अब तो अत्याधुनिक सूचना और संचार क्रांति ने इस प्रकार की बहुत सारी परम्पराओं को हमारे जीवन से विस्थापित कर दिया है । कवि और लेखक पहले अपनी रचनाएँ हाथ से लिखकर और डाकघरों से खरीदे गए पीले रंग के लिफाफे में सम्पादक को भेजा करते थे । पत्रकार भी अब अपने समाचार आनन - फानन में अपने अखबारों को इंटरनेट से भेज देते हैं । आम नागरिकों के लिए भी इंटरनेट जैसे तेज संचार संसाधनों से सूचनाओं का त्वरित आदान-प्रदान बहुत आसान हो गया है .
    नई टेक्नोलॉजी का उपयोग गलत नहीं है , लोग हाईटेक हो रहे हैं लेकिन कई तरह के खतरे उठाकर और नैतिक-अनैतिक के फर्क को भूलकर हाईटेक होने के दुष्परिणाम भी सामने आ रहे हैं ! ,उनसे अनजान रहना ,या जानबूझ कर अनजान बने रहना गलत है । ब्लू-व्हेल जैसे मोबाइल गेम से आकर्षित होकर कई बच्चों और युवाओं ने आत्म हत्या जैसे घातक कदम उठा लिए हैं ! बड़े-बड़े सेठ-साहूकारों के प्राइवेट टेलीविजन चैनलों में उपभोक्ता वस्तुओं के भ्रामक विज्ञापनों की भरमार जनता को भ्रमित कर रही है ,इन चैनलों में अपराध-कथाओं पर आधारित कार्यक्रम लोगों की मानसिकता पर नकारात्मक प्रभाव डालने लगे हैं । टेलीविजन चैनलो में नेताओं और अफसरों के बयान देखकर आसानी से समझ में नहीं आता कि कौन सही और कौन गलत बोल रहा है ? नई टेक्नॉलॉजी ने मनुष्य को सुविधाएं तो दी है लेकिन उसे दुविधा में भी डाल दिया है ! सही - गलत की पहचान मुश्किल होती जा रही है ! देश और दुनिया के नब्बे प्रतिशत लोगों में यह धारणा बन गई है कि गलत आचरण ही आज सदाचरण है । समाज में कथित रूप से प्रभावशाली बनने के लिए शार्ट कट से कोई राजनीतिक पद हासिल करना या किसी उच्च प्रशासनिक पद पर पहुंचना आज के युवाओं का लक्ष्य बन गया है । लोग ऊंची कुर्सियों तक पहुँच तो जाते हैं ,लेकिन उच्च नैतिकता को छू भी नहीं पाते !
          निरंतर परिवर्तनशील नई टेक्नोलॉजी से लोगों की मानसिकता में लगातार आ रहे बदलाव का एक बड़ा असर धार्मिक आस्था केन्द्रों में भी देखा जा सकता है ! मन्दिरों में पूजा -अर्चना के लिए अब स्वयं भजन गाने की जरूरत नही होती । भक्तों की सुविधा के लिए म्यूजिक सिस्टम पर भजनों की सीडी चालू कर दी जाती है । वहाँ भक्ति मनुष्य नही करता । उसका यह काम मशीन कर देती है । आपकी इच्छा हो तो मशीन से चल रहे भजनों पर आप खामोशी से अपने होंठ हिलाते रहिए । नई टेक्नोलॉजी से तरह-तरह के नये-नये उद्योग लगाना और नई-नई लम्बी-चौड़ी सडकें बनाना आसान हो गया है .इसके फलस्वरूप लोगों की मानसिकता में भी अजीब-ओ -गरीब बदलाव आ गया है ! लोग सब कुछ बहुत जल्द होते देखना चाहते हैं ,लेकिन इस हड़बड़ी में प्राकृतिक जल-सम्पदा और हरे-भरे वनों का विनाश भी तेजी से हो रहा है !  नई टेक्नोलॉजी से समाज की मानसिकता में बदलाव के साथ-साथ मौसम में भी खतरनाक बदलाव देखा जा रहा है ! दुष्परिणाम भी सामने आने लगे हैं ! कहीं बाढ़ तो कहीं सूखे के हालात बन रहे हैं.! उद्योग भी जरूरी हैं ,लेकिन सिर्फ लोहे बनाने वाले उद्योग नहीं ,बल्कि खेती और वनोपज पर आधारित उद्योग लगें तो किसानों की भी आमदनी बढ़ेगी और जनता को तरह-तरह की खाद्य-वस्तुएं आसानी से मिल सकेंगी . वनोपज आधारित उद्योग लगने पर वनों की सुरक्षा पर भी लोगों का ध्यान जाएगा .इससे पर्यावरण को बचाने में भी मदद मिलेगी ! लेकिन इस पर कौन ध्यान दे रहा है ?
          साफ़ दिखाई द रहा है कि परमाणु बम और अन्य विनाशकारी आधुनिक हथियार बनाने वाले लोग और ऐसे कई देश भी विध्वंसक मानसिकता के शिकार हो चले हैं । दुनिया में परमाणु शक्ति सम्पन्न राष्ट्र की अवधारणा को महिमामंडित किया जा रहा है ,जबकि द्वितीय विश्व-युद्ध के दौरान जापान के हिरोशिमा और नागासाकी शहरों में अमेरिकी परमाणु बमों से हुई तबाही का इतिहास ज्यादा पुराना नहीं है .यह सिर्फ बहत्तर साल पहले वर्ष 1945 की बात है .सब जानते हैं कि परमाणु हथियारों का इस्तेमाल मानवता के लिए कितना घातक हो सकता है ! जितनी ज्यादा साक्षरता बढ़ रही है , शिक्षा का जितना ज्यादा प्रसार हो रहा है , नैतिक दृष्टि से उतना ही ज्यादा पतन इंसानों का हो रहा है । सड़क हादसे में घायल होकर तड़फ रहे इन्सान की मदद के लिए शायद ही कोई इन्सान आगे आता हो ! समाज जीवन के किसी भी क्षेत्र में मनुष्य नहीं ,बल्कि मशीनों से चलने वाले ह्रदय विहीन मानव शरीरों की भीड़ नज़र आती है !
          शायद ऐसा होना बहुत स्वाभाविक है ,क्योंकि समय के साथ सब कुछ बदल जाता है ,या फिर बदलने की प्रक्रिया में आ जाता है ! सामाजिक बदलाव का एक चक्र होता है । वह घूमकर फिर अपनी पुरानी जगह पर लौट सकता है । पुराने दिन लौट सकते हैं । फिलहाल तो इसके आसार नज़र नहीं आ रहे , लेकिन कुछ सच्चे दिलों के अच्छे विचार आज भी राख में चिंगारी की तरह दबे हुए हैं । शायद कभी सुलग उठें ! --स्वराज करुण
                                                                                                                                                              

Sunday, August 27, 2017

(व्यंग्य रचना) वाह रे मैं ...!

           लोग अपने व्यक्तिगत जीवन में किसी महत्वपूर्ण ओहदे को प्राप्त करते हैं , पदोन्नत हो जाते हैं , कोई नई कुर्सी मिल जाती है , किसी ने अपने लेटरपैड के पन्ने पर किसी को किसी संस्था का  पदाधिकारी बना दिया , बिल्ली के भाग्य से कोई ईनाम किसी की झोली में टपक पड़ा , तो ऐसे स्वयंभू महान लोग अपने  फोटो के साथ अख़बारों में अपनी तारीफ़ खुद छपवाते हैं । अपना महिमा मंडन खुद करते हैं !
            पहले तो वे अपनी कथित सफलता का बखान करते हुए अखबारों को निःशुल्क प्रकाशन के लिए प्रेस विज्ञप्ति भिजवाते हैं और अगर प्रेस विज्ञप्ति नहीं छपी  या  अखबारों ने उसे सम्पादित करके छोटा -सा समाचार दे दिया तो  उनकी भूख शांत नहीं होती ! फिर वे तरह -तरह के विज्ञापन माध्यमों का सहारा लेते हैं ! अगर नेता किस्म के हुए तो विज्ञापनों के लिए वे किसी धनपशु को पटा कर उसे विज्ञापन का प्रायोजक लेते हैं !
            समाज के हर क्षेत्र के लोग इस व्याधि से संक्रमित होते जा रहे हैं । सोशल मीडिया ने तो उन्हें मुफ़्त में खुद के प्रचार का एक सर्व सुलभ मंच दे दिया है । आत्म प्रचार की बीमारी का वायरस उनकी तोपचन्दी को दूर - दूर तक वायरल कर देता है । इतने में भी प्रचार की भूख नहीं मिटती तो अपने जन्म दिन पर ,या अपनी किसी व्यक्तिगत कामयाबी  पर स्थानीय अख़बारों में अपने यार - दोस्तों की छोटी - छोटी और अपनी एक बड़ी - सी आदमकद फोटो के साथ बड़े - बड़े इश्तहार छपवाकर या फ्लेक्स और होर्डिंग्स लगवाकर अपनी तारीफ़ का ढिंढोरा पीटते हैं । पैसे खर्च कर अपनी पीठ खुद थपथपाते हैं ! अखबारों में अपने प्रचारात्मक विज्ञापन और उसमें अपनी हँसती -मुस्कुराती तस्वीर देख-देख कर खुद आल्हादित होते रहते हैं ! वे अच्छी तरह जानते हैं कि नेता बनने की प्रारंभिक प्रक्रिया यहीं से शुरू होती है !
          अब तो स्थानीय टेलीविजन चैनलों में भी इस प्रकार के आत्म प्रचारात्मक विज्ञापन प्रदर्शित होने लगे हैं , जिन्हें डिस्प्ले बिलबोर्ड कहा जाता है । होना यह चाहिए कि प्रचार प्रियता और छपास के रोगी  ऐसे लोग अपनी तारीफ़ खुद न छपवाएं , कोई दूसरा व्यक्ति स्वप्रेरणा से उनकी तारीफ़ लिखे और छपवाए , तब तो कोई बात है । अपनी ही पीठ खुद थपथपाकर खुद को शाबाशी देना कहाँ तक उचित है ? आईने के सामने खड़े हो जाना और कहना - वाह रे मैं ...!   - स्वराज करुण

Saturday, August 26, 2017

भगवान् भी भौचक रह गया होगा !

      उस आदमी ने खुद को भगवान का संदेशवाहक यानी मैसेंजर ऑफ गौड़  घोषित कर रखा था .इस नाम से साल-दो साल पहले उसकी एक फिल्म भी आई थी , जिसके माध्यम से स्वयं को भगवान का मैसेंजर बताने के लिए उसने फिल्म के प्रचार-प्रसार पर करोड़ों रूपए खर्च किए थे , लेकिन आज जब उसके अंधभक्तों की अराजक और असामाजिक फ़ौज की बेशर्म गुंडागर्दी से उसकी जो हिंसक छवि उजागर हुई , उसे देखकर शायद भगवान भी अगर कहीं होगा तो  भौचक रह गया होगा !  क्या उसे भगवान ने यह संदेश देकर भेजा था कि उसके चेले-चपाटे मिलकर भारतीय संविधान और कानून का खुलकर मजाक उडाएं और अपने गुरु के पक्ष में फैसला देने के लिए न्यायपालिका पर  हिंसक दबाव डालें ? एक तरफ तो आज पूरे देश में सार्वजनिक गणेश उत्सव की शुरुआत हुई ,वहीँ दूसरी ओर एक मुखौटेबाज के अपराध पर पर्दा डालने के लिए उसके समर्थकों ने हिंसा का ऐसा खूनी खेल शुरू कर दिया ,जिसके चलते गणेश उत्सव का उत्साह फीका पड़ गया .

          बात चल रही है 'डेरा झूठा सौदा ' के उस खूंखार खलनायक के बारे में ,जिसने अब तक राम और रहीम का मुखौटा पहन रखा था ,लेकिन आज उसका  यह मुखौटा भी उतर गया उस पर १५ साल पहले उसके ही आश्रम की दो साध्वियों ने बलात्कार का आरोप लगाया था और तत्कालीन प्रधानमन्त्री अटल बिहारी वाजपेयी को गुमनाम चिट्ठी भेजकर अपनी वेदना बताई थी . प्रधानमन्त्री ने तत्काल उस पत्र का संज्ञान लिया और जांच के आदेश दिए . सी. बी. आई जांच हुई .मामला उसकी विशेष अदालत में गया ,हरियाणा के पंचकुला में सी.बी.आई की विशेष अदालत ने आज यह फैसला दिया कि यह कथित बाबा बलात्कार का दोषी पाया गया है और सजा २८ अगस्त को सुनाई जाएगी . तब भी उसे अपने को निर्दोष साबित करने के लिए ऊपरी अदालत में अपील करने का अधिकार रहेगा ,लेकिन  आज शुक्रवार को उसके दोषी साबित होने के  फैसले को सुनते ही इस ढोंगी बाबा के हजारों समर्थकों ने पंचकुला और सिरसा में हिंसा का तांडव शुरू कर दिया . इस बाबा पर एक संगीन आरोप यह भी है कि उसने अपने आश्रम की पोल खोलने वाले एक पत्रकार की हत्या करवा दी . आश्रम मैनेजर की हत्या का आरोप भी इस ढोंगी पर लगाया गया है .हालांकि आज का  फैसला बलात्कार के आरोप पर आया है .


              गौरतलब है कि इसके ठीक दो  दिन पहले बाबा के इन भक्तों में से बहुतों ने  न्यूज चैनलों के कैमरों के सामने खुले आम यह कहा था कि हमारे बाबा पर कोई कार्रवाई हुई तो हम खून की नदियाँ बहा देंगे . आज उन लोगों ने इसे सच साबित कर दिखाया . उन लोगों ने . हरियाणा , पंजाब , दिल्ली ,उत्तरप्रदेश और झारखंड में खुल्लमखुल्ला खूनी उपद्रव मचाया . हरियाणा के सिरसा में इस डेरा झूठा सौदा का मुख्यालय है . वहां भी जमकर उपद्रव हुआ . पंचकुला भी हरियाणा में है .वहां तो जैसे ही बाबा को दोषी करार दिए जाने की खबर आई . पहले से जमकर बैठे उसके हजारों अनुयायी  सरकारी दफ्तरों ,सरकारी और निजी गाड़ियों को आग लगाने लगे .मीडिया कर्मियों पर प्राणघातक हमले किए गए . रेलगाड़ियों में आगजनी की गयी .वे पेट्रोल बमों से भी हमले कर रहे थे .खबर तो यह ही आई कि  ये अंधभक्त हाथों में पेट्रोल बम लेकर पंचकुला की उस अदालत की तरफ बढ़ रहे थे , जहां आज फैसला सुनाया गया था .देश के शांतिप्रिय नागरिक  एक बड़ा ही गंभीर सवाल उठा रहे हैं .वे कहने लगे हैं- - यह कैसी विडम्बना है कि आज से सिर्फ पांच साल पहले जब दिल्ली में निर्भया काण्ड हुआ था ,तो बलात्कारियों को दण्डित करने की मांग को लेकर दिल्ली की सडकों पर जन-सैलाब उमड़  पड़ा था,वह शांतिपूर्ण जन सैलाब था लेकिन सिर्फ पांच साल के भीतर वक्त ने ऐसा पल्टा खाया कि आज वैसा ही जन-सैलाब एक बलात्कारी के बचाव के लिए  खड़ा दिखाई दे रहा है ,पर यह एक  हिसंक और अराजक भीड़ है !. आश्चर्य इस बात का है कि आज सवेरे तक  न्यूज चैनलों को बाबा के यही अंधभक्त यह बयान दे रहे थे कि हम लोग हरियाणा और पंजाब के विभिन्न इलाकों से यहाँ सिर्फ बाबा के दर्शन करने आए हैं .हम शांति बनाए रखेंगे .ऐसे में उनके हाथों में पेट्रोल बम कहाँ से आ गया ,  तलवार कहाँ से आ गयी ? इस स्वयं भू बाबा को अदालत ने अपराह्न दोषी करार दिया और देखते ही देखते शाम तक उसके चेलों की हिसंक गतिविधियाँ हरियाणा ,पंजाब ,दिल्ली , सहित पांच राज्यों में फ़ैल गई .क्या इससे यह साबित नहीं होता कि यह सब पूर्व नियोजित साजिश के  तहत और इस ढोंगी संत के इशारे पर हुआ ?
    इन पंक्तियों के लिखे जाने तक यानी शुक्रवार देर रात  ग्यारह बजे तक टीवी खबरों के अनुसार चंद घंटों की इस हिंसा में लगभग तीस नागरिक  मारे जा चुके हैं और ढाई सौ से ज्यादा घायल हुए हैं. सम्पूर्ण घटनाचक्र को देखें तो पुलिस और सुरक्षा बलों ने काफी संयम और धैर्य का परिचय दिया और काफी समय तक वे उपद्रवी भीड़ पर गोली चलाने से बचते रहे ,लेकिन उपद्रव अगर चरम पर पहुँच जाए तो सरकारी सम्पत्ति और जनता के जान-माल की रक्षा के लिए  उन्हें अपना कर्त्तव्य निभाना पड़ता है .  हिंसा पर उतारू भीड़ ने पुलिस कर्मियों पर कश्मीरी अलगाववादियों की तर्ज पर पत्थरबाजी की .  फिर भी पुलिस ने धीरज का परिचय दिया .लेकिन एक बात परेशान करने वाली है कि जब  धारा १४४ लगी हुई थी और डेरा समर्थकों की भीड़ हरियाणा और पंजाब के विभिन्न इलाकों से पंचकुला आ रही थी तो उसे बीच रास्ते में ही रोका क्यों नहीं गया ? इस बीच पंजाब-हरियाणा है कोर्ट ने आदेश दिया है कि कथित बाबा के समर्थकों द्वारा की गई हिंसा में जितनी भी सार्वजनिक और निजी सम्पत्ति को नुकसान पहुंचा है ,उसकी भरपाई इस बाबा की सम्पत्ति में से की जाए !हाई कोर्ट का यह आदेश स्वागत योग्य है . लेकिन देखना यह है कि पंचकुला की विशेष अदालत में जब २८ अगस्त को सजा सुनाई जाएगी ,तब इस बाबा के भक्तों का क्या रुख रहेगा ?  एक सवाल यह भी उठ रहा है कि यह ढोंगी बाबा कहीं 'भिंडरावाले' का कोई नया संस्करण तो नहीं ?
                                                                      -स्वराज करुण
              

Friday, August 25, 2017

सार्वजनिक गणेशोत्सव और तिलक जी

      सार्वजनिक गणेश उत्सवों के कितने आयोजकों को लोकमान्य बालगंगाधर तिलक की याद आती है ? क्या उन्हें मालूम है कि आधुनिक भारत में यह सांस्कृतिक परम्परा महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी तिलक जी की देन है ? उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में देशवासियो को अधिक से अधिक संख्या में जोड़ने के लिए पुणे (महाराष्ट्र ) में सन् 1893 - 94 में इसकी शुरुआत की थी ।
                                                                                         (चित्र सौजन्य Google )
         गणेश उत्सवों में एकत्रित होने वाले भक्तों के बीच राष्ट्रीय एकता के साथ देशभक्ति का संचार करना, भारतीयों के दिलों से अंग्रेजी हुकूमत के काले कानूनों का खौफ दूर करना  उनका मुख्य उद्देश्य था । आज उनकी इस महान परम्परा के लगभग सवा सौ साल पूरे हो रहे हैं ।पहले यह परम्परा लोगों के घरों तक सीमित रहा करती थी .तिलक जी ने महाराष्ट्र में इसे सामाजिक और सार्वजनिक विस्तार देकर आज़ादी के आन्दोलन से जोड़ा . इतना ही नहीं ,बल्कि उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम के अपने अभिन्न सहयोगियों- विपिन चन्द्र पाल और अरविंदो घोष को बंगाल में सार्वजनिक दुर्गोत्सव शुरू करने की प्रेरणा दी . इस प्रकार सामूहिक गणेशोत्सव और दुर्गा पूजा को राष्ट्रीय स्वरुप मिला .पश्चिमी भारत में गणेशोत्सव और पूर्वी भारत में दुर्गोत्सव  देखते ही देखते सम्पूर्ण भारत के लोक महोत्सव बन गए . इन आयोजनों के माध्यम से भारतीयों को भावनात्मक रूप से एक-दूसरे के नजदीक आने और आज़ादी के आन्दोलन के लिए संगठित होने का मौक़ा मिला .
                                                                                (चित्र सौजन्य -Google)
                देश में भाद्र शुक्ल चतुर्थी से सार्वजनिक गणेश उत्सवों का श्री गणेश हो गया  है . स्थानीय परम्पराओं के अनुसार कहीं तीन दिन ,कहीं पांच दिन और कहीं दस दिन  तक गणेश पूजन की धूम रहती है . इस पावन अवसर पर तिलक जी की याद आना स्वाभाविक है . उन्होंने राष्ट्र-प्रेम की जिस पवित्र भावना से इस महान परम्परा का शुभारंभ किया था , आशा है कि यह आगे भी जारी रहेगी . सार्वजनिक गणेश उत्सवों के आयोजकों से हमारा यह आग्रह रहेगा कि वे इस ऐतिहासिक परम्परा के संस्थापक तिलक जी को भी जरूर याद रखें और कुछ ऐसा करें कि गणेश पंडालों में आने वाले भक्तों की वर्तमान पीढ़ी को उनके बारे में भी जानकारी मिल सके ।
    प्रत्यक्षदर्शी बताते हैं - हमने अपने बचपन में देखा है कि हमारे स्कूल में भी सार्वजनिक गणेश उत्सव मनाया जाता था । तरह - तरह की झाँकियाँ सजाई जाती थीं । गणेशजी की छत्रछाया में और अध्यापकों के मार्गदर्शन में बच्चों के लिए कई रचनात्मक प्रतियोगिताएँ भी हुआ करती थी ,जैसे - तात्कालिक भाषण , वाद -विवाद , कविता पाठ, चित्रकला आदि । कई बार नाटक भी खेले जाते थे । कबड्डी ,खो - खो जैसे कुछ पारम्परिक खेलों का भी आयोजन हो जाता था । स्थानीय नागरिकों के सहयोग से पुरस्कार भी दिए जाते थे । यह कोई तीस - पैंतीस या अधिक से अधिक चालीस - बयालिस साल पुरानी बात होगी । ।
         तब समाज में आज की तरह संकीर्ण मानसिकता हावी नहीं थी । सभी धर्मों और समाजों के बच्चे और नागरिक इन आयोजनों में उत्साह के साथ शामिल होते थे । समाज की मानसिकता बदले तो आज भी ऐसा हो  सकता है । बहरहाल सभी मित्रों को गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाई और स्नेहिल शुभेच्छाएँ                                                                                                       -  स्वराज करुण

Thursday, August 24, 2017

मौत के सौदागरों को कारोबार की आज़ादी ?

जहर है ,जानलेवा है ,फिर भी उन्हें खुलेआम बेचा जा रहा है ! प्राइवेट टेलीविजन चैनलों में धड़ल्ले से उनके विज्ञापन भी दिखाए जा रहे हैं । राजश्री पान मसाला ,विमल पान पराग और मैकडोनॉल्ड सोडा यानी शराब के विज्ञापन बड़ी बेशर्मी से प्रसारित किए जा रहे हैं !
           ऐसे तमाम जहरीले प्रोडक्ट्स पैकेटों में या बोतलों  में एकदम छोटे अक्षरों में कथित वैधानिक चेतावनी प्रिंट कर दी जाती है कि इनका सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है । ऐसा लिखकर इनके मुनाफाखोर उत्पादनकर्ता कानूनी पचड़े से बच जाते हैं ,लेकिन सवाल ये है कि जब इन पर यह चेतावनी प्रिंट की गई है कि ये वस्तुएं सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकती हैं तो इनका उत्पादन क्यों हो रहा है और इन्हें बाज़ार में बेचा ही क्यों जा रहा है और प्राइवेट टेलिविजनों में इनके विज्ञापन दिखाकर लोगों को इन्हें खरीदने के लिए क्यों ललचाया जा रहा है ? मौत का सामान बेचकर ऐसे लोग क्या आम जनता से गद्दारी नहीं कर रहे हैं ?
      जनता की जिन्दगी से मानसिक खिलवाड़ करने वाले ऐसे भ्रामक और घातक विज्ञापनों पर तत्काल रोक लगाने की जरूरत है । जब सिगरेट के विज्ञापन प्रतिबंधित हैं तो इन्हें छूट क्यों मिलनी चाहिए ? वैसे यह भी हद दर्जे की मूर्खता या फिर रूपयों का प्रलोभन नहीं तो और क्या है कि पैकेट पर कैंसरग्रस्त मनुष्य का फोटो छापकर सिगरेट बेचा जा रहा है ! अगर लोगों को बता रहे हो कि सिगरेट पीने से कैंसर हो सकता है तो फिर इसे बना क्यों रहे हो और बेच क्यों रहे हो ? क्या मौत के इन सौदागरों को कारोबार की और विज्ञापनों की आज़ादी मिलनी चाहिए ?    -- स्वराज करुण   

                                                                            

Wednesday, August 23, 2017

पापड़ से बनी पहचान !

         नकारात्मक ख़बरों के अत्यधिक शोर से बोर होकर मैंने बीती रात नेशनल जिओग्राफिक चैनल पर भारतीय महिलाओं की संगठन शक्ति और उसकी शानदार कामयाबी की कहानी देखी .चैनल ने एक रोचक डाक्यूमेंट्री के रूप में इसे प्रस्तुत किया है . इसमें स्वावलम्बन के लिए साधारण महिलाओं का असाधारण जज्बा उनकी ही जुबानी सुनने और देखने लायक है और हम जैसे लोगों के लिए उनके सम्मान में कुछ लिखने लायक भी . वैसे तो उनकी उद्यमशीलता के बारे में कई लोगों ने समय-समय पर काफी कुछ लिखा भी है . इंटरनेट पर भी उनकी गौरवगाथाएं मौजूद है ,लेकिन आज नेशनल जिओग्राफिक चैनल ने मुझे भी उनके सम्मान में कुछ कहने और लिखने को मजबूर कर दिया .यह प्रेरक कहानी श्री महिला गृह उद्योग की है,जिसका लिज्जत पापड़ आज देश-विदेश में इतना लोकप्रिय हो गया है कि पापड कहते ही लिज्जत का नाम अपने आप जुबान पर आ जाता है . 
         यह कोई प्राइवेट कम्पनी या निजी उद्योग नहीं है ,बल्कि  सहकारिता के आधार पर चल रहा भारतीय महिलाओं का गृह उद्योग है . मेरा उद्देश्य इस पापड़ का विज्ञापन करना नहीं और  न ही  इस संस्था के किसी पदाधिकारी से मेरा कोई परिचय है और न ही मैं इस प्रोडक्ट का  डिस्ट्रिब्यूटर हूँ  , इस  आलेख को लिखने और प्रस्तुत करने का मेरा मकसद  सिर्फ  सहकारिता के महत्व को रेखांकित करना और  उन महिलाओं के हौसले को सलाम करना है जिन्होंने करीब ५८ साल पहले १५ मार्च १९५९ को सिर्फ ८० रूपए की पूँजी लगाकर इस घरेलू उद्योग की शुरुआत की थी और आज उनका सालाना कारोबार ५०० करोड़ रूपए तक पहुँच गया है . कारोबार शुरू करने के लिए उन्होंने ये अस्सी रूपए भी एक सहृदय सामाजिक कार्यकर्ता ,भारत समाज सेवक संघ के अध्यक्ष श्री छगनलाल पारेख से उधारी में लिए थे . वर्ष १९६६ में सहकारी समिति के रूप में उनकी संस्था को सोसायटी अधिनियम के तहत पंजीयन मिला . जिस पापड़ उद्योग की शुरुआत मुम्बई में सिर्फ सात महिलाओं ने की थी , आज देश भर में उनकी ६२ शाखाएं हैं ,जिनमे सदस्य के रूप में शामिल ४२ हजार से ज्यादा महिलाएं न सिर्फ इस उद्योग में रोजगार प्राप्त कर रही हैं ,बल्कि अपने देशवासियों के और विदेशों के लिए भी प्रतिदिन करोड़ों की संख्या में स्वादिष्ट पापड बना रही है.सुदूर दक्षिण अफ्रीका तक लिज्जत पापड का निर्यात होने लगा है .अपनी शाखाओं में लिज्जत के ब्रांड नेम से पापड बनाने वाली महिलाएं गुणवत्ता नियन्त्रण का पूरी गंभीरता से ध्यान रखती हैं . उन्हें कच्चा माल संस्था की ओर से दिया जाता है और वे अपनी सुविधा से घर पर ही  संस्था के निर्धारित मानकों के अनुसार पापड़  बनाकर शाखा में जमा करती हैं  पापड़ किसी भी शाखा में बने, उसका . स्वाद एक जैसा मिलेगा .

       हमारे देश में  ' पापड़ बेलने ' का मुहावरा पता नहीं कब से चला आ रहा  है । इंसान को दुनिया में जिन्दा रहने के लिए कई तरह के पापड़ बेलने पड़ते हैं ,लेकिन अगर सामूहिक रूप से कोई काम शुरू किया जाए तो जिंदगी का सफ़र आसान हो सकता है । श्री महिला गृह उद्योग की सफलता की इस कहानी से यह सन्देश मिलता है । सरकार से कोई आर्थिक सहायता लिए बिना उन्होंने जिस यात्रा की शुरुआत की थी , वह तरक्की के रास्ते पर कई पड़ावों से गुजरते हुए आज भी जारी है । इन महिलाओं ने अपने पापड़ उद्योग से  न सिर्फ अपनी ,बल्कि अपने देश की भी पहचान बनाई है . 
     इस गृह उद्योग से जुडी ये महिलाएं अपनी संस्था के कारोबार में बराबर की हिस्सेदार हैं .उन्हें कारोबार के मुनाफे का बोनस भी मिलता है . बच्चों को कॉलेज पढाना हो , डॉक्टर ,इंजीनियर बनाना हो तो संस्था अपनी जरूरतमन्द सदस्यों को आर्थिक सहायता भी देती है ..लिज्जत पापड के लिए प्रसिद्ध श्री महिला गृह उद्योग आज भारत में महिला सशक्तिकरण और सहकारिता आन्दोलन की सफलता की मिसाल बन चुका है . तत्कालीन प्रधानमन्त्री श्री अटलबिहारी वाजपेयी ने केन्द्रीय कृषि और ग्रामोद्योग मंत्रालय द्वारा नई दिल्ली में १४ मार्च २००३ को आयोजित समारोह में महिलाओं के इस पापड उद्योग को सर्वश्रेष्ठ ग्रामोद्योग की श्रेणी में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया था. संस्था की ओर से श्रीमती ज्योति जे.नाईक ने यह पुरस्कार ग्रहण किया था . श्री महिला गृह उद्योग जैसे छोटे-छोटे प्रयास अगर देश के हर गाँव, हर शहर में हो तो महिलाओं के आर्थिक स्वावलम्बन का सपना बहुत जल्द साकार हो सकता है .वैसे विगत  कुछ वर्षों से देश के सभी राज्यों में लाखों की संख्या में महिला स्व-सहायता समूहों  का गठन किया गया है ,जिन्हें विभिन्न प्रकार के छोटे-छोटे कारोबार और घरेलू उद्योग के लिए सरकारी अनुदान के साथ  काफी सस्ते ब्याज पर ऋण भी दिया जाता है . महिलाओं को आत्म निर्भर आत्म निर्भर बनाने की यह पहल निश्चित रूप से सराहनीय है ,लेकिन  उनके गृह उद्योगों में बनी वस्तुओं को बाज़ार दिलाना एक बड़ी चुनौती है ,फिर भी 'लिज्जत' की स्वर्णिम सफलता  की कहानी उनके लिए प्रेरणा बन सकती है . महिलाओं की सहकारी संस्था द्वारा संचालित अमूल डेयरी की शानदार कामयाबी  भी इन महिला स्व-सहायता समूहों के लिए एक बेहतरीन उदाहरण है .

                                                                                                  -स्वराज करुण